माँ

संस्कार तुमने दिया, दिया नया आयाम।
माँ तुम हो सर्वोपरी, शत् शत् तुम्हें प्रणाम।।

माँ तेरा आँचल लगे, सुंदरतम् संसार।
तू ही मेरी गुरु प्रथम, तू ही पहला प्यार।

पढ़ना जारी रखें “माँ”

तुम्ही प्रेम पूजा तुम्हीं

प्रेम देत दस्तक प्रिये , खोलो दिल के द्वार |
छोटी सी है जिंदगी , कर लो थोड़ा प्यार ||

पिया तुम्हारे प्रेम में , गई स्वयं को भूल |
अब पथ में चिन्ता नहीं , मिले फूल या शूल ||

पढ़ना जारी रखें “तुम्ही प्रेम पूजा तुम्हीं”

चुटकी भर सिंदूर से

चुटकी भर सिंदूर से , गयी स्वयं को हार |
इतराई सौभाग्य पर , कर सोलह श्रृंगार ||

चूड़ी कंगन हथकड़ी , पायल बेड़ी पाँव |
बंधन मंगल सूत्र का , नाक नथनिया ठाँव ||

बिंदी है मन मोहिनी , जादूगर सिंदूर |
संग सात फेरे लिये , कैसे होगे दूर ||

पढ़ना जारी रखें “चुटकी भर सिंदूर से”