आज सोलह श्रृंगार कर लूंगी

आज सोलह श्रृंगार कर लूंगी
मैं सितारों से माँग भर लूंगी

टूट कर तारे ज्यों ही गिरेंगे
आँचल में मैं उन्हें भर लूंगी

पढ़ना जारी रखें “आज सोलह श्रृंगार कर लूंगी”

श्याम सलोने आओ जी

हे श्याम सलोने आओ जी
अब तो तुम दरस दिखाओ जी

आओ मधु वन में मुरलीधर
प्रीत की बंशी बजाओ जी

पढ़ना जारी रखें “श्याम सलोने आओ जी”

लालिमा फिर छा रही है

लालिमा फिर छा रही है,
शाम ढलकर आ रही है |

चन्द्रमा से कर सगाई ,
चाँदनी इतरा रही है!

पढ़ना जारी रखें “लालिमा फिर छा रही है”

उचर रहा छज्जे पर कागा

उचर रहा छज्जे पर कागा , कोयलिया सुर में गाई है |
जानी पहचानी सी खुशबू , लेकर पुरवाई आई है |

घड़ी दो घड़ी चैन न आवै, द्वारे बार बार मैं जाऊँ |
शायद साजन ने मुझको फिर , कोई चिट्ठी पिठवाई है |

पढ़ना जारी रखें “उचर रहा छज्जे पर कागा”

वादा करती हूँ तुझसे

वादा करती हूँ तुझसे निभाया करूंगी,
रोज सपनों में तेरे मैं आया करूंगी |

मैं अपनी कहूंगी और तेरी सुनूंगी,
यूँ ही दिल अपना बहलाया करूंगी |

पढ़ना जारी रखें “वादा करती हूँ तुझसे”

पहली बार

पहली बार उनका आना मुझे याद है सखी |
खट से कुंडी खटखटाना मुझे याद है सखी |

खोली दरवाजा तो सामने वे मिले,
नज़रों का टकराना मुझे याद है सखी ||

पढ़ना जारी रखें “पहली बार”