मैंने की है खता तो

मैंने की है खता तो सजा दीजिए
जिस्म से जान पर न जुदा कीजिये

प्यार करती हूँ मैं भी बहुत आप से
प्यार की जीत हो ये दुआ कीजिए

पढ़ना जारी रखें “मैंने की है खता तो”

दिखता तू ही तू है

कभी सूरज कभी चन्द्रमा की तरह,
दिखता तू ही तू है खुदा की तरह |

उठी नज़रें मेरी जब भी जिस तरफ़ ,
तुझे पाया वहाँ कान्हा की तरह |

पढ़ना जारी रखें “दिखता तू ही तू है”

टूट गई तंद्रा

टूट गई तंद्रा जो पग थाप से ,
हृदय का है नाता मेरा आपसे |

रुकी जो थीं सांसें फिर चलने लगीं,
सजन आपके नाम के जाप से |

पढ़ना जारी रखें “टूट गई तंद्रा”

आदत नहीं है

दर्दे दिल को जताने की आदत नहीं है,
बेवजह यूँ सताने की आदत नहीं है |

छोड़ देती मैं भी बात करना मगर,
मुझे रूठ जाने की आदत नहीं है |

पढ़ना जारी रखें “आदत नहीं है”

दी जो खुदा ने

दी जो खुदा ने हमें जिंदगी
चलो हम उसी की करें बंदगी

गिला है हमें कोई उससे अगर
प्रथम साफ दिल की करें गंदगी

पढ़ना जारी रखें “दी जो खुदा ने”

प्यार से वे मुझे

प्यार से वे मुझे बहलाने लगे
कसम फिर से वे मेरी खाने लग

रूठने का हुनर मैंने सीखा नहीं
लेकिन वे मुझे फिर मनाने लगे

पढ़ना जारी रखें “प्यार से वे मुझे”

उम्र हो चाहे कोई भी

उम्र हो चाहे कोई भी प्यार करना लाजिमी है |
हो जरूरी तैर दरिया पार करना लाजिमी है ||

जो उन्हें तकलीफ़ हो तकलीफ मेरी देखकर तो |
मुस्कुराकर दर्द में श्रृंगार करना लाजिमी है ||

पढ़ना जारी रखें “उम्र हो चाहे कोई भी”