परिचय

d7fff86e-0ffa-4f1d-96da-f37df6d884d3किरण सिंह

जन्मस्थान – मझौआं – ग्राम , जिला- बलिया
जन्मतिथि 28- 12 – 1967
प्रकाशित पुस्तकें – मुखरित संवेदनाएँ  ( काव्यसंग्रह ) प्रीत की पाती  ( काव्य संग्रह)
उपलब्धियाँ – विभिन्न राष्ट्रीय तथा अन्तरराष्ट्रीय पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित रचनाएँ एवम् आकाशवाणी तथा दूरदर्शन पर रचनाओं का प्रसारण!

लेखन विधा – छन्द बद्ध तथा छन्मुक्त पद्य, कहानी, लेख, समीक्षा!

अट्ठारह वर्ष की आयु में विवाह बंधन में बंध गई ! विवाहोपरान्त मैं पूरी तरह से घर गृहस्थी में उलझ गई ! भूल गई पढ़ाई लिखाई ! जीवन चलता रहा सुन्दर ! धीरे-धीरे चलते चलते पता ही नहीं चला कि कब बच्चे बड़े हो गए और उच्च शिक्षा के लिए बाहर चले गए !
कब और कैसे मन के दिये में भावना घृत भर गईं और जल उठे अन्तर्मन के दिये! प्रकाश पुंज में स्पष्ट हो गये शब्द सुमन और मैं लिखती गई निरन्तर ! मुखर हो उठीं मेरी संवेदनाएँ ! और प्रकाशित हो गया मेरा प्रथम काव्य संग्रह ( मुखरित संवेदनाएँ ) मैं एक नारी हूँ इसलिए नारी संवेदना के स्वर स्वयं प्रस्फुटित हो गये जो स्वाभाविक भी है ! मैने कभी राग लिखी तो कहीं विराग लिखी , कहीं ऋतुरंग लिखी तो कहीं भक्ति , कहीं वीर रस में मेरी भावनायें डूब गईं तो कहीं युग चेतना एवं उद्बोधन में ऊपर आ गई !
फिर मेरी दूसरी पुस्तक प्रीत की पाती प्रकाशित हुई जिसमें रचनाएँ श्रृंगार रस में भीगी हुई मिलेंगी जहाँ मैंने अपनी भावनाओं को ( गीत, गीतिका, गज़ल, मुक्तक, सवैया, घनाक्षरी, दोहा ,) छंद में बांधा है !

अपने विषय में तो मैं सिर्फ इतना कहना चाहूंगी.-
न मैं सुविज्ञा न ही विदूषी ,
न ही प्रेम की प्रेयसी !
उर सागर में लहर भावों की ,
उथल-पुथल को झेलती हूँ !
वर्ण वर्ण का मेल कराकर,
फिर शब्दों से खेलती हूँ !