मित्र

कहने को तो हैं यहाँ, मित्रों मित्र हजार।
किन्तु परखने पर मिले , गिने चुने दो चार।।

गिने चुने दो चार , चले हैं साथ सफर में ।
अब तक की अनुभूति, हमारी रही डगर में।

मति पर देकर जोर , किरण समझा अपने को।
रिश्ते नाते दार , हजारों हैं कहने को।।

मन भाये जिसकी अदा , सुन्दर लगे चरित्र |
सुख – दुख में हो साथ जो ,उसको कहते मित्र |

उसको कहते मित्र , तुम्हें जो मन से माने |
उर के हर हालात , बिना बोले ही जाने |

किरण करे हर बात , तुम्हें समझे समझाये |
वही तुम्हारा मित्र , अदा जिसकी मन भाये ||

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s