बहुत करती हूँ मैं तुमसे प्यार,

बहुत करती हूँ मैं तुमसे प्यार,
सुनो सच कहती हूँ मैं |
लो मैं करती हूँ सच स्वीकार,
कि तुमपर ही मरती हूँ मैं |

उर में मेरे तुम ही बसे हो,
आँखों में भी तुम ही सजे हो |
प्रिय तुमसे ही है श्रृंगार,
तभी तो संवरती हूँ मैं

तुम ही मेरे गीत हो साजन ,
जनम जनम के मीत हो साजन |
तुम तक ही मेरा है संसार,
कि तुममें ही ढलती हूँ मैं |

जब से प्रिय तुम रुठ गये हो,
नींद चैन सब लूट गये हो |
बोलो कैसे करूँ मनुहार ,
पाँव तेरा पकड़ती हूँ मैं |

तुम पर वार गई मैं सजना ,
मानो अब तुम मेरा कहना |
देखो जाऊँ न मैं थक हार,
कभी-कभी डरती हूँ मैं |

2 विचार “बहुत करती हूँ मैं तुमसे प्यार,&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s