छेड़ो मत नटखट

यमुना के तट पर, छेड़ो मत नटखट |
छोड़ दो कलाई मोहे भरना है गगरी ||

लेने दो न चैन मोहे करो न बेचैन श्याम |
विनती करूँ मैं तोरी छोड़ मोरी तगड़ी ||

सुनो नन्दलाल मोहे करोगे बेहाल तब |
कैसे जाऊँगी बताओ अपनी मैं नगरी ||

चल हट झट पट मोहे तंग मत कर |
जाना मोहे घर मत रोक मोरी डगरी ||

2 विचार “छेड़ो मत नटखट&rdquo पर;

  1. सुनो नन्दलाल मोहे न करो बेहाल अब |
    कैसे जाऊँगी मैं बोलो भीगी – भीगी नगरी ||… वाह , बहुत सुंदर लिखा है किरण जी ,राधा -कृष का प्रसंग मन मोह लेता है , जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं

    पसंद करें

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s