देखा जो तुमको

देखा जो तुमको पहली बार,
हुआ मेरे उर में झनकार |

कि जैसे छेड़ा हो कोई ,
मेरे मन वीणा के तार |

रात की नींद उड़ी थी तब ,
लुटा था चैन भी दिन का |

हुआ महसूस तब मुझको,
मुझे भी हो गया है प्यार ||

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s