इतिहास के पन्नों पर

इतिहास के पन्नों पर शायद ,
अंकित चित्र सुनहरा होगा |
सोंच रहा है नारी मन कल
पूर्ण स्वप्न हमारा होगा |

<!–more–>

कल्पना में विचर रही थी
तभी लगा कह रहा है कोई ,
लहूलुहान कदमों से अंकित
पथ पदचिन्ह तुम्हारा होगा ||

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s