रूप देखते ही रह गया बन्ना

रूप देखते ही रह गया बन्ना 2
कि बन्नी से नज़र ज्यों मिली 2
हाय रामा

बोला शादी मैं करूंगा तुम्हीं से?
कि घोड़ा चढ़कर आ गया 2
हाय रामा

सुनो बन्ना तू बड़ा है अनाड़ी 2
कि पापा मेरे नहीं ब्याहेंगे 2
हाय रामा

बात कर लूंगा पापा से मैं बन्नी 2
कि पहले तू तो हाँ कह दे 2
हाय रामा

कैसे कर दूँ मैं हाँ ओ बन्ने 2
कि लाज मोहे बड़ी लगती 2
हाय रामा

बड़ी भोली है तू मेरी बन्नो 2
कि लाज छोड़ ब्याह कर ले 2
हाय रामा

चलो मान लूंगी मैं तेरा कहना 2
कि शर्त मेरी तू सुन ले 2
हाय रामा

सर आँखों पे है तेरी सारी शर्तें 2
कि आजा मेरे संग गोरिये 2
हाय रामा

बड़ा सोडा है तू मेरा बन्ना 2
मुझे ले के चलो संग अपने 2
हाय रामा

इस गीत को शादी विवाह में उड़े जब – जब जुल्फें तेरी के तर्ज पर गाया जा सकता है!

4 विचार “रूप देखते ही रह गया बन्ना&rdquo पर;

  1. शादी- ब्याह के अवसरों पर ढोलक की थाप पर बन्ना-बन्नी गाने का अपना ही महत्व है | ऐसे में आप की ये रचना इन गीतों की मिठास को भूलती नयी पीढ़ी के बहुत काम आएगी | किरण जी , इस पोस्ट के लिए बहुत शुक्रिया

    Liked by 1 व्यक्ति

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s