एक दूसरे को देखकर

एक दूसरे को देखकर हैं दोनो ही मगन |
दूर दूर रहकर जाने कैसे लग गई लगन |
हो ठिठुरती सर्दियाँ चाहे जलाती हो तपन |
स्विकृत किया धरा ने जो खुशी से दे दिया गगन ||

इस पाक साफ प्रेम में न स्वार्थ है न लोभ ही |
वे देख कर ही तुष्ट हैं न दुख प्रकट न छोभ ही |
मगर जभी घेरने को छा जाती हैं बदलियाँ |
फफक कर रोया जो गगन लगीं तड़पने बिजलियाँ ||

लाती संदेश चाँदनी निशा में तो सुबह किरन |
देकर धरा को बोलतीं जो भी कहा उनसे गगन |
तब खिल उठी धरा पहन ली छीट दार चुन्दरी |
सज गई पिया के लिए बन दुलहनिया सुन्दरी ||

4 विचार “एक दूसरे को देखकर&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s