मैंने की है खता तो

मैंने की है खता तो सजा दीजिए
जिस्म से जान पर न जुदा कीजिये

प्यार करती हूँ मैं भी बहुत आप से
प्यार की जीत हो ये दुआ कीजिए

पढ़ना जारी रखें “मैंने की है खता तो”

नाकामयाब

काफी देर से मोबाइल रिंग कर रहा था जल्दी से काम छोड़कर मैंने जैसे ही मोवाइल उठाया उधर से नेहा की कुछ घबराई हुई आवाज आई…. किरण तुम फ्री हो…. मेरे हाँ कहने पर कुछ देर सोंचकर कहती है क्या करें किरण देखो ना मेघा का हसबैंड आया हुआ है.. (मेघा नेहा की बहन जिसका विवाह हुए करीब छः महीने हुआ था…! ) मैं सोंच में पड़ गई कि आखिर अपने बहनोई के आने से नेहा खुश होने के बजाय परेशान क्यों है……. वो बोल रही थी कि यशस्वी.. ( मेघा का पति ) कह रहे हैं कि अपने माँ पापा को समझाकर मेघा को मायके में ही बुलवा लीजिए.. बहुत जिद्दी है मेघा.. मेरे परिवार में किसी के साथ नहीं बनता है उसका … छोटी छोटी चीजों के लिए भी सभी से झगड़ा करती रहती है.. सबसे इतना व्यवहार खराब कर ली है कि कोई उसे पानी देने वाला भी नहीं है…..

पढ़ना जारी रखें “नाकामयाब”

उलझन

एक शहर में सावन बरसे दूसरे में है तपन
किस शहर में मैं रहूँ उलझन में है मन

एक शहर में कामना तो दूसरे में है समर्पण
एक शहर में ज्योति है तो दूसरे में जीवन

पढ़ना जारी रखें “उलझन”