कर लिया मैंनें सोलह श्रृंगार

कर लिया मैंने सोलह श्रृंगार
आजा पिया बन के बहार |
होकर बैठी हूँ मैं तैयार
आजा पिया……………..

पढ़ना जारी रखें “कर लिया मैंनें सोलह श्रृंगार”

देखो आया है डोली द्वार

देखो आया है डोली द्वार,
सजन घर जाना पड़ेगा,
मुझे कर दे सखी तैयार,
सजन घर जाना पड़ेगा

पढ़ना जारी रखें “देखो आया है डोली द्वार”

नजरिया

शहर में पली बढ़ी दीपिका जब गाँव में दुल्हन बनकर आई थी तो बिल्कुल अलग से माहौल में ढलना उसके लिए थोड़ा कठिन तो था ही लेकिन वह सोची चलो कुछ दिनों की तो बात है जैसे अबतक स्कूल काॅलेज में मंच पर नाटक करके या फिर फैंसी ड्रेस कम्पिटीशन में जीत हासिल कर प्राइज़ जीतती आयी हूँ तो क्यों न इस ससुराल के मंच पर भी उत्कृष्ट अभिनय करके पुरस्कार हासिल कर ही लूँ इसलिए वह गाँव के रंग में अपने आपको धीरे-धीरे ढालने लगी और कब कैसे उसपर ससुराल का रंग चढ़ने लगा उसे खुद भी नहीं पता चला!

पढ़ना जारी रखें “नजरिया”

दायरे

जिस प्रकार महिलाएँ किसी की बेटी बहन पत्नी तथा माँ हैं उसी प्रकार पुरुष भी किसी के बेटे भाई पति तथा पिता हैं इसलिए यह कहना न्यायसंगत नहीं होगा कि महिलायें सही हैं और पुरुष गलत ! पूरी सृष्टि ही पुरुष तथा प्रकृति के समान योग से चलती है इसलिए दोनों की सहभागिता को देखते हुए दोनों ही अपने आप में विशेष हैं तथा सम्मान के हकदार हैं!
महिलाएँ आधुनिक हों या रुढ़िवादी हरेक की कुछ अपनी पसंद नापसंद, रुचि अभिरुचि बंदिशें, दायरे तथा स्वयं से किये गये कुछ वादे होते हैं इसलिए वे अपने खुद के बनाये गये दायरे में ही खुद को सुरक्षित महसूस करती हैं !

पढ़ना जारी रखें “दायरे”

इतिहास के पन्नों पर

इतिहास के पन्नों पर शायद ,
अंकित चित्र सुनहरा होगा |
सोंच रहा है नारी मन कल
पूर्ण स्वप्न हमारा होगा |

पढ़ना जारी रखें “इतिहास के पन्नों पर”