सखी पनघट पर मैं नहीं जाऊँगी ,

सखी पनघट पर मैं नहीं जाऊँगी ,
कन्हैया बड़ा छलिया है

बंशी बजाई के मोहे लुभावे
मधुर सुरीला राग सुनावे
खो जाऊँगी बंशी की धुन सुन
अपनी आँखों में सपने बुन
भूली अगर मैं पनिया भरन
तो मैं क्या – क्या बहाना बनाऊँगी
कन्हैया बड़ा…………….

पढ़ना जारी रखें “सखी पनघट पर मैं नहीं जाऊँगी ,”

मैया मोरी देदो मोहे मोबाइल

मैया मोरी देदो मोहे मोबाइल

मोबाइल से बात करूंगा
तुमसे सच्ची – सच्ची
बड़ा हो गया अब तो मैं भी
उमर नहीं है कच्ची
जब तुम मुझको मिस करोगी तभी करूंगा डाइल
मैया देदो…………………

पढ़ना जारी रखें “मैया मोरी देदो मोहे मोबाइल”

एक चिट्ठी भाई के नाम


जैसे ही नैहर की
चौकठ पर
मैंने रखा पांव
सज – धजकर खड़ी थी भौजाई
लेकर हांथो में सजी
थाल

पढ़ना जारी रखें “एक चिट्ठी भाई के नाम”